चन्द्र ग्रहण १२ राशियो पर कैसा प्रभाव दिखायेगा

0
89

५ जून २०२० को लगनेवाला चन्द्र ग्रहण १२ राशियो पर कैसा प्रभाव दिखायेगा
निर्णय सागर के अनुसार यह ग्रहण मान्ध चन्द्र ग्रहण है

ज्येष्ठ शुक्ल पक्ष पूनम शुक्रवार तारीख ५/६/२०२० ई को मान्ध चन्द्र ग्रहण क़ा स्पर्श राशि ११.१६ मध्य रात्रि शेष १२.५५ एवं मोक्ष रात्रि शेष २.३४ बजे होगा यह ग्रहण उतरी अमेरिका, ग्रीनलैण्ड, दक्षिण अमेरिका क़ा पश्चिमी भाग, रशिया क़ा पूर्वोतर भाग आदि को छोड़कर शेष संपूर्ण विश्व में दृश्य होगा इस ग्रहण क़ा धार्मिक दृष्टी से कोई महत्व नहीं है. इसमें किसी भी प्रकार क़ा यम-नियम-सूतक आदि मान्य नहीं होगा.

यह ग्रहण उपछाया में होगा जैसे हमने पहले बताया की भारत में यह ग्रहण नहीं दिखाई देगा और इसका सूतक काल भी नहीं माना जाएगा रात्रि को होनेवाला यह ग्रहण ज्योतिष शास्त्र के अनुसार अलग-अलग राशि पर अलग-अलग छाया रहेगी हम १२ राशियो के लिए यह ग्रहण क्या फल देगा यह जानेगे. 

मेष राशि (अ,ल,ई)

चतुर्थ स्थान के अंतर्गत मकान,भूमि और इससे झुड़े हुए सभी काम में बाधाए उत्पन्न हो सकती है. कुटुंब में और माता-पिता के प्रति सेहत क़ा ख्याल रखना जरुरी है. वाद-विवाद से दूर रहने में ही आपको फायदा है आपकी निर्णय शक्ति किसी के ऊपर न छोड़े आपका निर्णय आप खुद ले फिर भी निर्णय शक्ति में कुछ न कुछ अभाव हो सकता है. राशि स्वामी आपका मंगल है मंगल को आप प्रसन्न करे मंगल को प्रसन्न करने के लिए ह्रीं भोमाय नमः इस मंत्र क़ा जाप करे. ग्रहण क़ा समय पूरा हो जाने के बाद धान्य एवं मीठी वस्तु क़ा दान करे. 

वृषभ राशि (ब,व,ऊ) 

दशम भाव से देखा जाए तो और सप्तम भाव से देखा जाए तो अपने कार्यक्षेत्र में कही न कही तनाव रहेगा. कार्यक्षेत्र में बाधा उत्पन्न हो सकती है. साथ-साथ आप भागीदारी में व्यापार करते हो तो व्यापार में बाधा आ सकती है. सप्तम स्थान पर प्रभाव से पत्नी की सेहत क़ा ख्याल रखे, दांपत्य जीवन में कही न कही मुश्केली आ सकती है आपका राशि स्वामी शुक्र है. इस दिन शुक्र मंत्र क़ा जाप करे ग्रहण पूर्ण होने के बाद दूध से बनी हुई चीजो क़ा दान करे. 

मिथुन राशि (क,छ,घ)

देह भुवन पर राशि का प्रभाव होगा झूठी-मुटी  बातों से ध्यान रखना होगा कहीं ना कहीं किसी से अनबन हो सकती है देह भुवन स्थान पर होने से मानसिक तनाव ज्यादा रहेगा और साथ में आरोग्य सुखाकारी के पर असर हो सकता है और खासकर महिलाओं के लिए आरोग्य में ज्यादा ध्यान रखना जरूरी है षष्ठम भाव से देखा जाए तो रुण स्थान है किसी से उधार लिए हुए पैसे से परेशान हो सकते हो खर्च भी ज्यादा रहेगा. इस समय दौरान बुध मंत्र का जाप करें. ॐ बुधाय नमः ग्रहण का काल पूर्ण होने के बाद कुछ मिठाई का या दूध से बनी हुई मीठी चीज का दान करें

कर्क राशि (ड,ह)

कर्क राशि का स्वामी चंद्रमा है चंद्र के द्वारा इस राशि पर सीधा प्रभाव पड़ता है. फिर भी आपको मुश्केली तो आएगी परंतु अधिक नहीं छोटी-मोटी मुश्केली आ सकती है. परिवार के साथ रिश्तेदारी में अनबन होगी छात्रवर्ग को शिक्षा के प्रति ध्यान रखना होगा. माता-पिता को अपने संतान के प्रति ध्यान रखना होगा. थोड़ा मन पर प्रभाव पड़ने से मन के ऊपर कुछ गलतफेमी आ हो सकती है और इससे बचने की आपको जरूरत है. यहां आपको विष्णु भगवान का मंत्र ॐ नमो भगवते वासुदेवाय वही करना है और बाद में दूसरे दिन माताजी के मंदिर में सफेद वस्तु का कुछ दान करें.

सिंहराशि (म,ट)

चतुर्थ भाव पर प्रभाव होने से आरोग्य सुखाकारी के लिए यह विशेषकर प्रॉब्लम करनेवाला है और कुछ न कुछ समस्या हो सकती है. रिश्तेदारी में परिवार में तनाव देखने को मिलेगा. ग्रहण के समय सूर्य और चंद्र दोनों मंत्र के जाप करने हैं.

कन्याराशि (प,ठ,ण)

आपकी राशि कन्या है. इससे देखा जाए तो आप में सहन शक्ति कम होगी. परिवार में सबंध ना बिगड़े इसकी तकेदारी रखें. ज्यादातर भाई-बहन के साथ रिश्ता अच्छा रहने की कोशिश करनी चाहिए. आपके परिवार में माता-पिता के साथ आपकी अच्छी बनी रहे. इसके लिए आपको ध्यान रखना है. उनकी सेहत का भी ख्याल रखना है. ग्रहण के दौरान आपको बुध मंत्र का जाप करना चाहिए. दूसरे दिन लीली वस्तु का दान करें यह आपके लिए उचित है.

तुलाराशि (र,त)

ग्रहण की असर बुध ग्रह पर होने से वकृत्व शक्ति पर ध्यान देना होगा. क्यूकी बोलने से व्यापार संबंधित पीड़ा हो सकती है. व्यापार में बाधा आ सकती है. शारीरिक समस्या छाती के ऊपले हिस्से में होने की संभावना है. तनाव बढ़ सकता है और चिंता बनी रहेगी. ग्रहण के समय पर ॐ शुक्राय नमः मंत्र का जाप करें. घी और तेल का दान करें.

वृश्चिक राशि (न,य)

आपके लिए यह ग्रहण की असर मिली जुली रहेगी अध्यात्म के तरफ आप ज्यादा रहोगे और धर्म पर रुचि होने से आपको बहुत अच्छा रहेगा. व्यापार सबंधी कार्य क्षेत्र सबंधी अच्छे लाभ मिलेंगे. जीत आपकी निश्चित है. विष्णु भगवान का मंत्र ॐ नमो भगवते वासुदेवाय करें. दूसरे दिन तांबा का दान करें. घी से बनी हुई मिठाई दान करें.

धनराशि (भ,ध,फ़,ढ)

आपके मन पर असर होगा. इसीलिए आप मन को विचलित ना होने दें. आपके मन में विचार शक्ति ज्यादा रहेगी सोच-समझकर काम करें आप पूजा पाठ करवाने से ज्यादा शांति मिलेगी. नवग्रह शांति प्रयोग करें. यह करने से आपको बहुत अच्छा फायदा मिलेगा. आपको खाने-पीने में जो मसाला होता है वही दान करें और गुरु की सेवा करें गुरु मंत्र का जाप करें.

मकरराशि (ख,ज)

आपको  यह ग्रहण की असर पूर्ण रूप से नकारात्मक फल देनेवाली है. धन सबंधी चिंता होगी. दांपत्य जीवन में पूर्णता नहीं देखी जाएगी. परिवार में भी आप शांतिपूर्ण काम करें क्यूकी परिवार में तनाव रहेगा. इसलिए शनिवार के दिन हनुमान चालीसा का पाठ करें और शनि का दान लोहा एवं उड़द विगेरे दान करें.

कुंभ राशि (ग,स,श,ष)

दशम भाव पर असर होने से व्यापार सबंधी कहीं ना कहीं रुकावट आएगी. आपका पैसा फसने की संभावना है और व्यापार में नुकसान भी हो सकता है. इसीलिए ध्यान रखें कोर्ट-कचहरी हो सकती है. दांपत्यजीवन में तनाव रहेगा. शनि मंत्र का जाप करें और पांच प्रकार की मिठाई का दान करें. तेल का दान करें.

मीनराशि (द च झ थ)

आपकी राशि के ऊपर देखा जाए तो मन पर थोड़ा तनाव रहेगा. कार्य में रुकावट आएगी. आपके बच्चों की सेहत बिगड़ सकती है और मन में वहेम याने गलतफेमी होने से ज्यादा परेशानी झेलनी पड़ेगी. गुरु मंत्र का जाप ॐ गुरुवे नमः गुरु की सेवा करें, गुरु को दान करें और ग्रहण के बाद पीली वस्तु का दान अवश्य करें.


कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें